bg-hh-1

तेरे मेरे दरम्यां, ये जो रिश्ता है बना
खुद रब ने हमारे बाँधी हैं ये डोरियाँ
वो वचन और कसमें थी, सात जन्मों के साथ की
मैं निभाऊँगां उन्हें सात जन्मों के बाद भी
तू जो है साथ मेरे, ये जहाँ जन्नत से भी हसीं
तू धुन है मेरे प्यार की, हमेशा मेरे दिल में गूंजती रही
मैं मुस्कुराता हूँ जब भी, होता है सामने चेहरा तेरा
तूने आकर जीवन में, ये जीवन किया पूरा मेरा
तुम मुशायरा हो मेरा, मेरी गज़लें भी तुम हो
मैं गुनगुनाता हूँ जिन्हें वो गीत मनचले भी तुम हो
नींदों के तकियों पर चादर है तेरे ख़्वाबों की
हर एक ख्याल पर मेरे, दस्तक है तेरी यादों की
है फासलें गर हमारे बीच तो क्यूँ डरना है
इन फासलों के साथ ही इश्क़ की हद से गुजरना है
है मेरा वादा तुमसे कि ये मोहब्बत कभी कम नहीं होगी
और तेरी-मेरी ये कहानी कभी खत्म नहीं होगी

Picture taken from: allbrides.wordpress.com
Advertisements