630864-journey-of-long-road

उन रास्तों को देख कुछ कह रहे हैं
लाखों सफर पूरे किए, मगर वहीं रह रहे हैं
हैं सिखाते सबक़ तुझको स्थिरता का सदा
ना सोच तू परिणाम की, बस कर अपना फ़र्ज़ अदा
तू साथ चल सभी के, मगर अपना अस्तित्व खो नहीं
तू सीख सबसे कुछ ना कुछ, घमंड तुझमे हो नहीं
हैं मंज़िल की कीमतें, पर रास्ते भी ज़रूरी हैं
बिन रास्तों की समझ के, मंज़िल की चाह अधूरी है
सपने पाल आँखों में उनका भी रंग सिंदूरी है
पी ले कुछ बूँद जूनून की, ये नशा धतूरी है
चल चला चल, उस राह पर जो रुकने का ना नाम ले
बढ़ जा तू नई मुश्किलों की ओर, बस अपना जिगरा थाम ले
तू रह मुसाफिर ताउम्र, पर चाँद को छूने की चाह ना छोड़
छोड़ दे तू दुनिया सारी, बस तू अब अपनी राह ना मोड़
ये वक़्त अभी तेरा है, मगर बदलते मिनट नहीं लगती
और वक़्त गुजरने के बाद बिखरी किस्मत सिमट नहीं सकती
तो है इंतज़ार किस बात का, आगे बढ़ और इतिहास बदल दे
आज का ये दिन और अपना नाम, इतिहास में स्वर्णिम कर दे

Picture taken from: blogspot.com
Advertisements