मेरे खुदा

praying

अ खुदा तू कितना खूबसूरत है कि जब सोचूँ मुस्कुरा देती हूँ ,
क्या रुतबा है तेरा ऐसा कि जब चाहे तेरे आगे सिर झुका देती हूँ |

मेरे गुनाहों की कोई माफ़ी ना सही, मगर फिर भी सब तुझे बता देती हूँ,
जानती हूँ कि तू साथ है मेरे, इसलिए हर दिन इम्तिहान नया देती हूँ |

हारने का डर जो मन में होता है, तेरे साथ होकर उसे हरा देती हूँ,
जो जोड़ा है धन माया मैंने, तेरे पैरों में सब लूटा देती हूँ |

तेरे प्यार को जाना जब से, बाकी सब पराया सा लगता है,
तू छू दे जो मेरी दुआओं को, तो सारा जग अपनाया सा लगता है |

मैं रेत की कीमत में हूँ, हीरे का मोल ना जानूँ,
बस तू ही धरती-आकाश, जहाँ तू, बस तुझको ही मानूँ |

इबादत में तेरी जब हाथ उठाऊँ, दुनिया भूल जाती हूँ,
जुदा होकर मैं खुद से, तुझमें ही समा जाती हूँ |

तब पाती हूँ खुद को और तुझको भी अपने ही अंदर पाऊँ,
फिर क्यूँ किसी मूरत को अपना भगवान बताऊँ |

Picture taken from: wallpaperswide.com
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s