तू एक नारी है…

78fc151d67ab1d79755c6545be9c646e

एक पल्लू जो तेरे सिर से फिसल के चल दिया
एक बर्फ का हिस्सा कहीं पिघल के चल दिया
एक लब्ज़ जो तेरे अधरों से शोर सा निकाला
एक हवा का झोंका फिर जोर से चला
एक बूँद जो तेरे आँख से बरसी
एक नदी यूँ सागर की प्यास में तरसी
तू जान खुद को कि तू आग है पानी नहीं
घुट-घुट कर जीना तेरी कहानी नहीं
तू शाम की वो शमा है जो हर परवाने को जला दे
और एक छुअन से सारे दुख-दर्द भुला दे
तू नाजुक-सी मूरत है मिट्टी की,तो वो समझे मूक भी है तू
पर अब है वक़्त बताने का कि चुभने वाला शूक भी है तू
तू आज पहन चूड़ी, कंगन सारा श्रृंगार कर ले
तू मुस्कुरा कर, मुट्ठी में अपनी, सारा संसार कर ले
पर तू क्रोध की सीमा लांघे तो चंडिका, दुर्गा, काली है
तू तांडव कर, तेरा हक़ है, तू हर शिव रूप को जनने वाली है
तू जान खुद को, खुद की तलाश कर ले आज
तू अस्तित्व समझ खुद का, तब ही तो समझेगा समाज
तू बाँध मत खुद को,बिखर जा बारिश की बूंद बनकर
तू बैठ नहीं डर कर,निकल अकेले, काफ़िले-सा जूनून बनकर
शीतल रख अपने मन को, पर आंच ना आये दमन पर
और गर क्षीण करे तेरी पवित्रता कोई, तो दामिनी बन
हुंकार भर सिंहनी की, कालरात्रि का रूप धर ले
और नाश कर पापियों का खून का कटोरा भर ले
बहुत हुई ये पुरुष प्रधानता, होश में आ अब तेरी बारी है
तू कर अपना नाम सार्थक, दिखा दे सबको की तू एक नारी है….

Picture taken from: pinterest
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s