word press
एक सुनसान से घर में
एक तकिया और चादर के साथ रहता हूँ
कोई नहीं होता आस पास
लोगों के सिर्फ जिस्म इधर उधर घूमते नज़र आते हैं
परछाइयाँ भी हैं उनकी
लेकिन बात नहीं करती
रोज उस तकिये को पकड़ कर
चादर में लिपट कर
अपने अंदर बैठे अकेलेपन से
बात करने की कोशिश करता हूँ
रूठ जाता है वो भी कई बार
और बाहर आने की कोशिश करता है
जलाता है मेरा लहू अंदर ही अंदर
मगर बाहर सबको मेरा खोखला शरीर
एक इंसान के जैसे ही नज़र आता है
किवाड़ खोलते – बंद करते रहता हूँ
कि लोगों के आने जाने जैसा आभास हो
जान बूझ कर बर्तन ज़मींन पर पटक देता हूँ
कि मेरी इस खाली गुमसुम ज़िंदगी में थोड़ी आवाज़ हो
बालकनी के कोने में बैठकर सामने खड़े पेड़ों से
उनका हाल चाल पूछ लेता हूँ
ये सोचकर कि वही तो हैं
जिनकी वजह से अब तक ज़िंदा हूँ
रोज़ आसमान की चित्रकारी और
चाँद तारों के नक़्शे देखते-देखते सो जाता हूँ
कोई नहीं हैं यहाँ,
बस दीवारें, दूर तक पसरी हुई ख़ामोशी
और एक बिखरा हुआ-सा मैं
यही ज़िंदगी है हम बंजारों की
कोई ठिकाना नहीं और कोई अपना नहीं
Advertisements