हिस्सों में बँटें हुए लोग

images-1

हिस्सों में बँटें हुए लोग
कभी अपनों से अपनों में
कभी अपने ही सपनों में
कभी रंग-रूप के पैमाने में
कभी जाम, कभी मयख़ाने में

हिस्सों में बँटें हुए लोग
कभी बँटें दोस्ती के नाम पर
कभी बिखरे है फाइलों के काम पर
कभी छूटे हैं किसी और के साथ के लिए
कभी भटके हैं अपने से अहसास के लिए

हिस्सों में बँटें हुए लोग
दर्द का सैलाब समेटे हुए हैं
कहीं अपनी ही याद में बैठे हुए हैं
खोये हुए हैं खुद ही से खुद को पाने के लिए
कभी टूटे हैं किसी और से प्यार जताने के लिए

हिस्सों में बँटें हुए लोग
बाहर से एक ही लगते हैं बंद मुट्ठी की तरह
मगर अंदर कैसे ध्वस्त हो रहे, ना जाने वजह
एक युद्ध जो हमेशा चल रहा है भीतर भी
नहीं मिलती ज़िन्दगी, हर पल जी कर भी

हिस्सों में बँट चुके हैं लोग
हिस्सों को चुन रहे हैं लोग
हिस्सों से ना बन सकेंगे लोग
हिस्से ही हैं, हिस्सों में बँटें हुए लोग
हिस्सों में बँटें हुए लोग

Picture taken from: Somos Rc
Advertisements

तू एक नारी है…

78fc151d67ab1d79755c6545be9c646e

एक पल्लू जो तेरे सिर से फिसल के चल दिया
एक बर्फ का हिस्सा कहीं पिघल के चल दिया
एक लब्ज़ जो तेरे अधरों से शोर सा निकाला
एक हवा का झोंका फिर जोर से चला
एक बूँद जो तेरे आँख से बरसी
एक नदी यूँ सागर की प्यास में तरसी
तू जान खुद को कि तू आग है पानी नहीं
घुट-घुट कर जीना तेरी कहानी नहीं
तू शाम की वो शमा है जो हर परवाने को जला दे
और एक छुअन से सारे दुख-दर्द भुला दे
तू नाजुक-सी मूरत है मिट्टी की,तो वो समझे मूक भी है तू
पर अब है वक़्त बताने का कि चुभने वाला शूक भी है तू
तू आज पहन चूड़ी, कंगन सारा श्रृंगार कर ले
तू मुस्कुरा कर, मुट्ठी में अपनी, सारा संसार कर ले
पर तू क्रोध की सीमा लांघे तो चंडिका, दुर्गा, काली है
तू तांडव कर, तेरा हक़ है, तू हर शिव रूप को जनने वाली है
तू जान खुद को, खुद की तलाश कर ले आज
तू अस्तित्व समझ खुद का, तब ही तो समझेगा समाज
तू बाँध मत खुद को,बिखर जा बारिश की बूंद बनकर
तू बैठ नहीं डर कर,निकल अकेले, काफ़िले-सा जूनून बनकर
शीतल रख अपने मन को, पर आंच ना आये दमन पर
और गर क्षीण करे तेरी पवित्रता कोई, तो दामिनी बन
हुंकार भर सिंहनी की, कालरात्रि का रूप धर ले
और नाश कर पापियों का खून का कटोरा भर ले
बहुत हुई ये पुरुष प्रधानता, होश में आ अब तेरी बारी है
तू कर अपना नाम सार्थक, दिखा दे सबको की तू एक नारी है….

Picture taken from: pinterest

हम युवा

download-1

आसमाँ के परिंदे भी है हम और धरती की चट्टान भी
नदी की शांत लहरें भी है और समंदर का तूफ़ान भी
है आग इतनी सीने में कि जला दे जहां सारा
और वही बन जाये सूरज करे हर तरफ उजियारा
आसमान का आखिरी छोर न सही, ज़िंदगी की डोर तो हैं हाथ में
और ये रस्ते तो यूँ ही कट जायेंगे, जब हम सब यार हैं साथ में
बस एक है कसम की मंज़िल की चाह मत छोड़ना कभी
और मंज़िल को पाने खातिर गलत राह पर कदम ना मोड़ना कभी
तो रुको नहीं बस जज़्बे को साँसों में भर के चल दो
हाथ थाम लो सबका और दुनिया को बदलने निकल दो
रंग दो जहां को अपने सपनों के रंग में
है जानते हम भी कि जीतना ही होगा हमें हर जंग में

Picture taken from: gavowzy

काश….

boy-leave-girl-moves-away-from-her-sad-love-image

काश तू मुझे भूल गया होता और कहानियाँ वो सारी दफ़न हो गई होती
काश तेरे दिल की गालियाँ भी बाकियों की तरह बदचलन हो गई होती
काश लिखता ना लहू से तू नाम मेरा इस दुनिया की दीवारों पर
होती गर रेत पे मोहब्बत तेरी तो लहरों के साथ मिलन हो गई होती

खुशबू हर तरफ से जो तेरी आ रही थी रात भर वो कहीं खो गई होती
वो फुसफुसाहट जो मेरे कानों में थी तेरी काश कहीं दूर गम हो गई होती
काश ना सोचता मेरा दिमाग तेरे ही बारे में हर वक़्त
तो रातों को रह रह कर रुलाने वाली ये सिसकियाँ सुमदुम हो गई होती

ना तड़प होती तेरे सीने में काश मेरे साथ को अगर पाने की
तू करता हर संभव कोशिश मेरी यादों को दिल से मिटाने की
काश होता तेरा दिल भी औरों की तरह पत्थर थोड़ा
तो मैं ना होती इतनी गलत नज़रों में ज़माने की

मैं सोचती हूँ रात भर, काश हमारी कहानी ऐसे ना अधूरी होती
काश कि मेरे जीने के लिए तेरी हर सांस ज़रूरी होती
काश ना की होती हमने गलतियाँ इतनी हर बार
तो आज ये प्यार की दास्ताँ भी बाकियों की तरह पूरी होती

Picture taken from: Pixhome

मेरे खुदा

praying

अ खुदा तू कितना खूबसूरत है कि जब सोचूँ मुस्कुरा देती हूँ ,
क्या रुतबा है तेरा ऐसा कि जब चाहे तेरे आगे सिर झुका देती हूँ |

मेरे गुनाहों की कोई माफ़ी ना सही, मगर फिर भी सब तुझे बता देती हूँ,
जानती हूँ कि तू साथ है मेरे, इसलिए हर दिन इम्तिहान नया देती हूँ |

हारने का डर जो मन में होता है, तेरे साथ होकर उसे हरा देती हूँ,
जो जोड़ा है धन माया मैंने, तेरे पैरों में सब लूटा देती हूँ |

तेरे प्यार को जाना जब से, बाकी सब पराया सा लगता है,
तू छू दे जो मेरी दुआओं को, तो सारा जग अपनाया सा लगता है |

मैं रेत की कीमत में हूँ, हीरे का मोल ना जानूँ,
बस तू ही धरती-आकाश, जहाँ तू, बस तुझको ही मानूँ |

इबादत में तेरी जब हाथ उठाऊँ, दुनिया भूल जाती हूँ,
जुदा होकर मैं खुद से, तुझमें ही समा जाती हूँ |

तब पाती हूँ खुद को और तुझको भी अपने ही अंदर पाऊँ,
फिर क्यूँ किसी मूरत को अपना भगवान बताऊँ |

Picture taken from: wallpaperswide.com

बदलाव

sad-girl-alone-in-love-sad-girl-in-rain-wallpaper-hd-desktop

आज हँसी आती है खुद पर
कि ज़िन्दगी क्या से क्या हो गई
जो कभी सब दुःख भुला देती थी
दुःख देने वाली आज वही जुबाँ हो गई

दो कदम अकेले न चलने वाली राहें
आज खुद-ब-खुद तनहा हो गई
जिससे प्यार था इस दिल को
घुटन की अब वही वजह हो गई

सिसकियाँ भी अब खामोश हो चुकी
चीखें भी अब गुमशुदा हो गई
आँखें हर वक़्त नम रहती हैं
दर्द भरी हर कहकशाँ हो गई

चहचहाता परिंदा थी जो कभी
आज वो जीव बेजुबाँ हो गई
बस तकलीफें रह गई झोली में
खुशियाँ सब तबाह हो गई

मरने का इंतज़ार रह गया बाकि
ज़िन्दगी अब एक सजा हो गई
छीन ले मुझको मुझसे ही अब
खुदा से हर यही दुआ हो गई

Picture taken from: http://www.chainimage.com

सबक सफ़र का

630864-journey-of-long-road

उन रास्तों को देख कुछ कह रहे हैं
लाखों सफर पूरे किए, मगर वहीं रह रहे हैं
हैं सिखाते सबक़ तुझको स्थिरता का सदा
ना सोच तू परिणाम की, बस कर अपना फ़र्ज़ अदा
तू साथ चल सभी के, मगर अपना अस्तित्व खो नहीं
तू सीख सबसे कुछ ना कुछ, घमंड तुझमे हो नहीं
हैं मंज़िल की कीमतें, पर रास्ते भी ज़रूरी हैं
बिन रास्तों की समझ के, मंज़िल की चाह अधूरी है
सपने पाल आँखों में उनका भी रंग सिंदूरी है
पी ले कुछ बूँद जूनून की, ये नशा धतूरी है
चल चला चल, उस राह पर जो रुकने का ना नाम ले
बढ़ जा तू नई मुश्किलों की ओर, बस अपना जिगरा थाम ले
तू रह मुसाफिर ताउम्र, पर चाँद को छूने की चाह ना छोड़
छोड़ दे तू दुनिया सारी, बस तू अब अपनी राह ना मोड़
ये वक़्त अभी तेरा है, मगर बदलते मिनट नहीं लगती
और वक़्त गुजरने के बाद बिखरी किस्मत सिमट नहीं सकती
तो है इंतज़ार किस बात का, आगे बढ़ और इतिहास बदल दे
आज का ये दिन और अपना नाम, इतिहास में स्वर्णिम कर दे

Picture taken from: blogspot.com

एक कविता की रचना

vintage_paper_cameo_key_pen_book_76277_3840x2160

मैं लिखना चाहती हूँ आज, मगर क्या लिखूं कुछ समझ नहीं आता है
जैसे ही कागज़ पर उतारने लगती हूँ, वो विचार का कीड़ा कहीं खो जाता है
मैं ढूँढती हूँ उसे अपनी ही गहराइयों में डूब-डूब कर, मगर नाकामी नज़र आती है
बहुत मेहनत के बाद भी, कविता की एक पंक्ति नहीं बन पाती है
मैं हर चीज़ को ताकती हूँ पहली सी नज़र से, कोई नया उसके लिए ख्याल आ जाए
क्या पता उसी चीज़ से जुड़े जीवन का, मेरे दिमाग में कोई बवाल आ जाए
जब नहीं खटखटा पाती कोई चीज़ मेरे दिमाग के दरवाजों को,तब मैं पलट कर अपने आप पर आ जाती हूँ
और अपने अंदर भरे कई अनुभवों की एक के बाद एक की ख़ाक छानते जाती हूँ
मैं ताज़ा करती हूँ अपनी बीती  हुई यादों को,
जगाने की कोशिश करती हूँ उन सोये हुए ख्वाबों को,
खोलती हूँ गर्दिले पन्ने, नया करती हूँ पुरानी किताबों को,
और कोशिश करती हूँ, कविता में बाँधने की उन बिखरे अल्फ़ाज़ों को,
फिर रंगती हूँ कागज़ को मैं अपनी कल्पनाओं के रंग से,
और लिखती हूँ कुछ पंक्तियाँ अपने ही अलग ढंग से,
ये बिखरी-बिखरी सी शब्दमालाएँ, कुछ अर्थ अंत में दे जाती हैं
और इस तरह एक आतंरिक युद्ध के बाद, एक छोटी सी कविता बन जाती है

Picture taken from: wallpaperscraft.com

बाबुल की बिटिया

the-brides-father-daughter-heart-farewell-moment-at-the-wedding_2

उन नन्हें हाथों का स्पर्श आज फिर से महसूस हो रहा है
उन प्यारी-सी किलकारियों की गूंज से आज दिल खुश हो रहा है
मेरी नन्हीं परी का वो पहला कदम
उसके छोटे से मुख से निकला वो पहला शब्द
वो भारी स्कूल बैग का बोझ ना ढो पाना
वो कभी बेवजह रूठना और फिर खुद ही मान जाना
वो पहली बार कॉपी में ‘A’ ग्रेड मिलने की ख़ुशी
वो हर बार अपने बर्थडे के सरप्राइज की करना जासूसी
वो तेरी आँख से छलका पहला आंसू
आज के दिन सब याद कर रहा हूँ
कि कब मेरी नन्हीं गुड़िया इतनी बड़ी हो गई
कभी मेरे सहारे चलने वाली, आज मेरा सहारा बन कर खड़ी हो गई
अब बदलने वाली है तेरी ज़िन्दगी, बस मुस्कुरा कर उसे अपना ले
हम तो हैं ही तेरे दिल में, जा अब उनको भी अपना बना ले
हमेशा प्यार, इज्जत और सम्मान के ही रास्ते पर ही चलना
और अपने ससुराल में सबकी ज़िन्दगी खूबसूरत करना

Picture taken from: fancystyle.wordpress.com

मेरी संगिनी

bg-hh-1

तेरे मेरे दरम्यां, ये जो रिश्ता है बना
खुद रब ने हमारे बाँधी हैं ये डोरियाँ
वो वचन और कसमें थी, सात जन्मों के साथ की
मैं निभाऊँगां उन्हें सात जन्मों के बाद भी
तू जो है साथ मेरे, ये जहाँ जन्नत से भी हसीं
तू धुन है मेरे प्यार की, हमेशा मेरे दिल में गूंजती रही
मैं मुस्कुराता हूँ जब भी, होता है सामने चेहरा तेरा
तूने आकर जीवन में, ये जीवन किया पूरा मेरा
तुम मुशायरा हो मेरा, मेरी गज़लें भी तुम हो
मैं गुनगुनाता हूँ जिन्हें वो गीत मनचले भी तुम हो
नींदों के तकियों पर चादर है तेरे ख़्वाबों की
हर एक ख्याल पर मेरे, दस्तक है तेरी यादों की
है फासलें गर हमारे बीच तो क्यूँ डरना है
इन फासलों के साथ ही इश्क़ की हद से गुजरना है
है मेरा वादा तुमसे कि ये मोहब्बत कभी कम नहीं होगी
और तेरी-मेरी ये कहानी कभी खत्म नहीं होगी

Picture taken from: allbrides.wordpress.com