मेरी वो

आपने देखा तो होगा ही उसे चहकते हुए, मगर बहुत बार कुछ डूबी सी टहलते हुए, लगता है नाम जैसी … More

जिंदगी का दर्द

ज़ख्म ज़िन्दगी के न भरतें हैं ज़िन्दगी भर, बस इस उम्मीद में ही जिए जातें हैं, ज़रा सा झोंका बस … More

विलीनता

विलीनता क्या है? मुक्ति है या कोई सज़ा है? यहाँ हर कोई हर चीज़ के हर बार विलीन होने से … More

कहानी

नायिका जब मुस्कुराती है बस तभी एक कहानी शुरु हो जाती है बढ़ती जाती है आगे-आगे वो अपने नायक का … More

इश्क तेरा मेरा

पलछिन के पार, हो तेरा-मेरा संसार चाँद की बाहों में घर हो हमारा हवाओं के साथ बहते चले हम सिर्फ … More

मेरे गाँव की शाम

मैं शाम को बैठती हूँ जब मेरे घर के बाहर वाले आंगन में तब अहसास होता है कि मैं रहती … More

दोस्ती में जुदाई

मुस्कुराते, खेलते एक-दूजे को छेड़ते यूँ ही कुछ पल हमारी झोली में आ गए दिवाली के दीए थे या होली … More